Friday, November 15, 2013

तुम ही सिर्फ महान
















सचिन तुम्हारे जैसा कोई हुआ, न होगा आगे।
तुम्हें खेल में न पायेंगे कितना दुखद ये लागे।।
भारत का गौरव हो तुम, रहे खेल की शान।
आने वाली सदियों तक तुम ही सिर्फ महान।।
खेल क्रिकेट का भी रोयेगा, होगा बहुत उदास।
कौन बुझायेगा उसकी रनों की बढ़ती प्यास।।
धन्य हुआ तुम्हें पा भारत, तुमको है आभार।
सदा रहा है सदा रहेगा तुमसे सबका प्यार।।
शायद कोई तोड़ पाये, जो तुमने रचा इतिहास।
सबको देगा सदा प्रेरणा, तेरा सफल प्रयास।।
रहो हमेशा स्वस्थ और हो मुसकानों का संग।
जीवन सरस मधुर हो, हों खुशियों के रंग।।